There was an error in this gadget

Saturday, April 30, 2011

EK CHOTI SI LADKI

Hey friends being a girl..its a responsibility of me to save the girl child..here i m writing some thing about it..some things comes in my thoughts..i hope u will like it..and please spread it across the country as much as u can..post it on the social sites..

एक छोटी सी लड़की 

एक छोटी सी लड़की अज कल मेरे सपनो में आती है, 
अपनी कहानी चुपके से मेरे कानो में सुनती है,
रोती है,सिसकती है,बिलबिलाती है,
अपने होना का मकसद,जरुरत मझे बताती है,
पर मै चुप हूँ,क्या कहू उससे ये समझ नही पाती हूँ 
वो शिकायत करती है,इस दुनिया से,लोगो से,समाज से..
क्यूँ अपनी ही जिंदगी जीने का हक भी वो नही पाती है,
क्यों उस मासूम से चेहरे की हत्या क्र दी जाती है,
यही सवाल,वो दुनिया से,समाज से पूछना चाहती है,
क्यों इस बर्बर समझ को जरा भी दया नही आती है,
क्यों इतने सारे जुल्म वो अकेले ही सहती जाती है,
क्यों अपने हक की लडाई भी वो नही पाती है,
वो लड़की मेरे नही अप सभी के ख्यालो में आती है,
सवाल आप सब से भी यही दोहराती है, 
पर जवाब देने से आप पीछे हट जाते है.
क्युकि आप सभी को नींद बहुत आती है,
एक छोटी सी लड़की....!!!





Suchita yadav.....

Thursday, April 28, 2011

AJ KAL LOVE HOTA HAI JANAB


AJ KAL LOVE HOTA HAI JANAB


Log kehte hai aj kal love hota hai janab..
Par is ishq ki jalim hawa hai badi khrab.
Ye ek betuka sa hai ehasaas,
jiska world cup aur IPL se bhi tej hota hai bukhar,
Phr bhi log kehte hai aj kal love hota hai janab
Ye to hai ek critical disease se bhi bura hai,
Aur Iska sankraman to har traf faila hua hai..
Ladkiyo me to iski hod si lagi hai
Tabhi unke boyfriends ki sankhya hai behisab.
Phr bhi log kehte hai aj kal love hota hai janab….
Ye to 1 virus hai jiska growth rate hai 100% se paar
Jispe sare antivirus hai bekar..
Computer me aa jaye to moniter per bhi kr deta hai prem ka sanchar
Phir bhi log kehte hai aj kal love hota hai janab
Kuch Ladko ko lage to rog hai sabse bekar
Duniyadari chod kr ho jate hai lutne marne ko taiyar
Bus deen duniya chod ke saare kaam suru krte hai iska prachar..
Phir  bhi log kehte hai aj kal love hota hai janab…
24 hours mobile ka bill badhate hai
Baki kam chod kar sara din night tariff plan ka pata lagate hai
Khana peena sab chod ek dusre ke  khana khane pe nirbhar ho jate hai
Bus duniya me yhi ek marj hai jiska duniya me nhi koi ilaaj
Phr bhi log kehte hai aj kal love hota hai janab…..
Mere liye to ye untouched emotion hai bahut bebuniyaad.
Phir bhi log kehte hai aj kal LOVE hota hai JANAB..!!!

Saturday, April 23, 2011

Haseen yadein


Haseen yadein

Wo dosti ke kisse kahani..
Kuch bhuli bisri si yadein purani..
Wo shrarton ke mele,wo hasi suhani..
Jindagi ke haseen lamhon ki batien purani..
Yadein purani kuch,kuch kisse kahani..
Yaad hai abhi bhi,wo haseen jindgani..

Nanhe nanhe se kadmo se dastak di thi.
Jindagi ne ek nayi karwat li thi
Dosti ka hath thaame jindagi chal nikali thi
kuch chote chote riste ban gye the..
par pyar ki unme koi kami na thi..
waqt gujar gya batien gujar gyi…
par yaad hai abhi bhi us haseen jindgi ki.




Friday, April 22, 2011

School ke wo pal..

this is dedicated to all my navodayan friends...i will miss u yr...




School ke wo pal..

kabhi na bhool pane wale wo pal..
har ghadi ka sath,wo dosto ki halchal
raaton ko baith ke wo picture chlana
subah ko jake teacher aur principal ki daat khana.
Phr bhi aadaton me koi sudhar na lana..
Subah assembly me roz late jana..
Jake peeche wale gate me chup jana..
Morning PT me hmesha sick ho jana..
Bathroom ke liye number lgana..
Chote chote kabbadi aur kho kho ke inter comptition me
Sbka india aur Pakistan ho jana..
Wo safayi ke liye warden ka khudayi krwana..
Wo classroom ka duty chart..
Jisme duty ke naam pe hota classroom me jhadoo lgana..
Har subah morning assembly me teacher ka stage pe ana
Aur apne boring lecture se sbko sulana..
Wo school ke aakhiri din milna milana
Ek dusre ke liye aasu bhana..
Or sirf ek hi baat kehna…
I will miss u yr….!!!!


Thursday, April 21, 2011

ये कैसी मेरी कहानी है


ये कैसी मेरी कहानी है

कैसी ये मेरी जिंदगानी है,
कैसी ये मेरी कहानी है,
दिल नाराज है और मेरी आँखों में भी पानी है,
हर रोज़ एक नयी राह पे जाना है,
पर मंजिल हर रोज़ की तरह बेगानी है,
खुदा क्यूँ नही सुनता मेरी,
शायद उसका लिए भी मेरी जिंदगी बेमानी है,
ऐसी ही मेरी कहानी है, 
खुद से लडती बेबस ये जिंदगानी है, 

खुद से क्यों नाराज़ हू मै,
इस सवाल का जवाब रोज़ धुन्दती मेरी जिंदगानी है,
फिर भी लोग कहते है की सुनहरी मंजिल  इसे पानी है,
पर इस बात ये अनजान है की मेरी किस्मत बस यही एके रुक जानी है,
कब होगी इस जिंदगी की नयी सुबह
अब इन्तेजार करती हूँ इस बात का 
की आगे भी कोई मोड़ है मेरी जिंदगी का या बस यही पर 
इसी मोड़ पर खतम मेरी कहानी है 
न कोई रास्ता न कोई मंजिल,
ऐसी ही मेरी कहानी है....

एक राही


एक राही 

एक रास्ता एक मंजिल जो  जाने कहाँ खो सी गयी है 
एक राही दो  कदम  जाने  कहाँ थक  से  गये  है 
फिर  भी  एक  उम्मीद  है कुछ पाने की 
उगते सूरज से एक किरण चुराने की 
एक उम्मीद सब कुछ खो कर सब फिर से हासिल कर जाने की ..
राहे जुदा है मंजिल खफा है फिर भी .
अपना एक नया काफिला बनाने की .
दुनिया की होड़ से कुछ आगे निकल जाने की 
एक उम्मीद,एक आशा,एक नया सवेरा लाने की ..
जिंदगी को नयी सुबह दिखने की .
पर अब वो राही, उसके कदम थक से गए है 
आशाओं के बोझ के तले दब से गए है 
उसकी आशा,दीये की लौ सी डगमगा रही है .
कब झोके से बुझ जाये इसका भी पता नही है ..
लोग जाने क्यों समझते नही हालात को .
उस राही,उसकी मंजिल, उसके जज्बात को.....