There was an error in this gadget

Thursday, December 3, 2015

तु मुझको दर्द भी देजा

तु मुझको दर्द भी देजा,
दवा भी तुम लगा देना,
हो गर गलतियां मुझसे,
सजा भी तुम सुना लेना,
तेरा जो हाथ छोड़ू मैं ,
पकड़ कर तुम बिठा लेना,
गर हूं  नाराज़ मैं तुमसे,
पलट कर तुम मना लेना,
रिश्ते की एहमियत फिर से,
मुझको फ़िर से तुम सिखा देना।।


द्धारा 
(सुचिता यादव)